टोपी मास्टर कर्लक नूं चढ़या इक वार च लक्खां दी सट्ट मारन दा शौक….कुआरे बुड्ढे कर्लक दे राह ते चल्लन दी कर रेहा कोशिश

टोपी मास्टर कर्लक नूं चढ़या इक वार च लक्खां दी सट्ट मारन दा शौक….कुआरे बुड्ढे कर्लक दे राह ते चल्लन दी कर रेहा कोशिश

जालंधर, (लखबीर)

कहंदे ने खबरूजे नूं देखके खरबूजा रंग बदल लेंदा है अते अजेहा ही हाल अज-कल जिले दे इक दफ्तर च चल्ल रेहा है। जी हां, जित्थों दे कई अफसर कम्म बदले रोजाना लक्खां की रिश्वत दी खेड खेडदे आ रहे हन, उत्थों दे कर्लक भी आपने आपनूं किसे तों घट नहीं समझ रहे। इत्थों दे अफसर हर रोज एक-एक कम्म बदले 10-10 हजार रुपए दी रिश्वत लै के शाम तक लक्खां रुपए इकट्ठे कर लेंदे ने। इसे तरह इसे विभाग दा इक टोपी मास्टर कर्लक भी इहनां दे राह ते तुर पेया है। इस कर्लक ने बड़ी जल्दी बाकी कर्लकां नूं पिछे छड्ड दित्ता है क्योंकि इसने इक कम्म बदले दो-चार हजार नहीं बल्कि ढाई लक्ख रुपए ही मंग लए।

गुस्ताफी माफ… पर सच्च है

चाहे इह कम्म अफसर दे लैबल दा सी पर इसने कम्म करवाउण वाले नूं भरोसा दिवाया कि अधिकारी नवां है, मैं अक्ख बचा के तुहाडा कम्म कढवा देणा है पर किसे कारण सौदा नहीं बन सकेया ते कम्म अग्गे पै गया है, जिस तों इह टोपी मास्टर कर्लक हुण अमन अमान नाल चुप्प करके बैठ गया है।

गुस्ताफी माफ… पर सच्च है

अजे पूरी तरां सीट ते बैठना भी नहीं आया ते…

जुम्मा-जुम्मा कुझ महीने ही होए ने इस टोपी मास्टर नूं सीट ते बैठे नूं ते इसने आपने रंग विखाउणे शुरू कर दित्ते हन। अज-कल कर्लकां नूं बदली दा भूत बहुत सता रेहा है, जिस कारण उह जिन्ना माल हत्थ आवे उसनूं समेटन दी कोशिश च लग्गे होए हन। लोकां दी मन्नी जावे तां इस कर्लक ने तां मोटा ही हत्थ मारके सारा माल इकट्ठा करण दा मन्न बना लेया सी पर लगदा इस दी किस्मत दे सितारे अजे इसदा साथ दिंदे दिखाई नहीं दे रहे हन।

गुस्ताफी माफ… पर सच्च है

बुड्ढा कुआरा कर्लक दे रेहा गुड़ती…

इस टोपी मास्टर कर्लक नूं अज-कल कुआया बुड्ढा कर्लक गुड़ती दे रेहा है क्योंकि बुड्ढे कर्लक ने इसे कम्म च पीएचडी कीती होई है अते आपनी अद्धी उमर गुजार लई है ते इसे कारण वेआह तों भी वांझा रह गया है। पता चलिया है कि रोज शाम नूं बुड्ढा कुआरा कर्लक टोपी मास्टर नूं रगड़ा लगाउण दे दाव पेच सिखा रेहा है। रोज दोपहर तों बाद टोपी मास्टर दे दफ्तर च बैठके उसदी कलास लगाउंदा देखिया जा सकता है। पर शायद टोपी मास्टर नूं कुआरे बुड्ढे कर्लक दीयां करतूतां बारे पता नहीं है। इह भी कैहणा कोई झूठ नहीं होवेगा कि टोपी मास्टर नूं बुड्ढा कर्लक किसे न किसे गेम च फस्सा के उसदी थां ते आप आउणा चाहुंदा है। बाकी रब्ब खैर करे….।

गुस्ताफी माफ… पर सच्च है

अग्गे इह भी दस्सांगे कि टोपी मास्टर पुरानी सीट ते बैठ के इक-इक कम्म बदले किवें बटोरदा रेहा 30-30 हजार।