केंद्र सरकार ने देश के गन्‍ना किसानों को दिया बड़ा तोहफा
The central government gave a big gift to the sugarcane farmers of the country

केंद्र सरकार ने देश के गन्‍ना किसानों को दिया बड़ा तोहफा

नई दिल्‍ली

नए कृषि कानूनों को लेकर चल रहे आंदोलन के बीच केंद्र सरकार ने देश के गन्‍ना किसानों को बड़ा तोहफा दिया है। कैबिनेट की बैठक में फैसला लिया गया कि गन्‍ना किसानों को 3500 करोड़ रुपये निर्यात सब्सिडी, 18 हजार करोड़ रुपये निर्यात लाभ के साथ ही दूसरी सब्सिडी भी दी जाएगी। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि इस साल सरकार ने 60 लाख टन चीनी निर्यात करने का फैसला किया है। इस पर सब्सिडी सीधे गन्‍ना किसानों के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर (DBT) की जाएगी।

For News and Advertisement

एक हफ्ते में मिलेगी 5000 करोड़ रुपये तक की सब्सिडी

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि सरकार सब्सिडी के तौर पर 3500 करोड़ रुपये देगी। सरकार के इस फैसले से देश के पांच करोड़ गन्‍ना किसानों और पांच लाख मजदूरों को सीधा फायदा होगा। उन्‍होंने बताया कि एक हफ्ते के भीतर 5000 करोड़ रुपये तक की सब्सिडी किसानों को मिलेगी। साथ ही उन्‍होंने बताया कि 60 लाख टन चीनी को 6 हजार रुपये प्रति टन के हिसाब से निर्यात किया जाएगा। उनके मुताबिक, इस साल चीनी का उत्पादन 310 लाख टन होगा। वहीं, देश की खपत 260 लाख टन है। चीनी का दाम कम होने की वजह से किसान और चीनी मिलें संकट में हैं।

For News and Advertisement

क्‍यों लिया गया 60 लाख टन चीनी निर्यात का फैसला

जावड़ेकर ने कहा कि किसानों और शुगर मिलों की समस्‍याओं से निपटने के लिए कैबिनेट की आर्थिक मामलों की समिति (CCEA) ने 60 लाख टन चीनी निर्यात करने को मंजूरी दी है। साथ ही गन्‍ना किसानों को निर्यात पर सब्सिडी देने का फैसला भी लिया गया है। उन्‍होंने कहा कि किसान शुगर मिल को गन्‍ना बेचते हैं। फिर शुगर मिलों में अतिरिक्‍त शुगर स्‍टॉक पड़े रहने के कारण मिल मालिक गन्‍ना किसानों का भुगतान समय पर नहीं कर पाते हैं। इस समस्‍या को ध्‍यान में रखते हुए सरकार ने चीनी के अतिरिक्‍त स्‍टॉक को निकालने और किसानों को समय पर गन्‍ना भुगतान कराने के लिए ही चीनी निर्यात का फैसला लिया है।
The central government gave a big gift to the sugarcane farmers of the country