सिद्धु गुस्से वाला का एक ओर कारनामा… छुट्टी वाले दिन पहुंचता है जहां…

सिद्धु गुस्से वाला का एक ओर कारनामा… छुट्टी वाले दिन पहुंचता है जहां…

जालन्धर (लखबीर)

सरकारी विभागों में अधिकारियों की अनदेखी कारण बहुत सारे दफ्तरों का हाल-बेहाल होना संभव सी बात लगती है पर किसी धार्मिक स्थल की जिम्मेवारी किसी सरकारी अधिकारी को मिली हो तो वह इस तरह बेपरवाही दिखाई तो उसका रब्ब ही राखा होगा। जालन्धर के साथ लगते इलाके के लोगों की मानें तो एक बड़े धार्मिक स्थल, जहां लाखों की तदाद में लोग नतमस्कत होते हैं, वहां का जिम्मेदार आदमी उनकी भावनाओं से खिलवाड़ करता आ रहा है, जिससे भगवान भी उसे माफ नहीं करेगा। जी हां, लोगों की मानें तो प्रशासन द्वारा सिद्धु गुस्से वाला के नाम से मशहूर जिस अधिकारी को धार्मिक संस्था की जिम्मेवारी सौंपी है वहां पर भी वह आपना गुस्सा जाहिर करता साफ दिखाई दे रहा है पर उसे यह मालूम नहीं है कि वह जिस गुरू को गुस्सा दिखाने की कोशिश कर रहा है, उसकी हालत उसने क्या करनी है। छुट्टी वाले दिन उसे धार्मिक स्थल पर पहुंचना चाहिए पर वह स्टेशन लीव करके आपने घर पहुंच जाता है, जिस कारण भी लोगों में गुस्सा है।

जो काम रुका, वह रूका ही रह गया…

सिद्धु गुस्से वाले ने चाहे आपने लालाच के लिए इस संस्था की जिम्मेवारी हाथ-पैर जोड़ कर ले ली हो पर उसने कभी इस ओर ध्यान देना जायज नहीं समझा। पिछले अधिकारियों द्वारा धार्मिक स्थल के विकास के लिए जो काम शुरू करवाए थे वह उसे भी पूरा नहीं करवा पाया। सिद्धु गुस्से वाला द्वारा जिम्मेवारी लेने के पश्चात धार्मिक स्थल इतना घाटे में गया कि वहां के गैस कुनैक्शन भी कटने की नौबत तक आ गई। वहीं श्रद्धालुओं के लिए  जो हाल बनाया गया था, उसकी सारी तैयारी होने के बाद सिर्फ फर्श बाकी था, जो डेढ साल बीतने के बाद भी नहीं पड़ सका।

इलाके में विरोध की लपटें शुरू…

पूरे इलाके में सिद्धु गुस्से वाले की इस करतूत की निखेधी हो रही है। लोगों में गुस्सा है कि जिस धार्मिक स्थल को सिद्धु गुस्से वाला हलके में ले रहा है, उसने इसको ऐसा उल्टा करना है कि वह चाहे सिद्धु है पर वह भगवान इसे कभी सीधा नहीं होना देगा।

छुट्टी वाले दिन पहुंचता है आपने घर…

धार्मिक स्थल पर इसकी देखरेख की ड्यूटी लगाई गई है पर वहां से भागता ही दिखाई दिया है। वह छुट्टी वाले दिन धार्मिक स्थल पर आने की बजाए आपने घर जाना ज्यादा जरूरी समझता है। लोगों अनुसार स्टेशन लीव करके गुरू घर को इग्नौर करके वह पाप का भागीदार बन रहा है।