इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की डेडलाइन मिस करने पर दोगुनी पेनाल्टी भरनी पड़ सकती है
Missing deadline to file income tax returns may result in double penalty

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की डेडलाइन मिस करने पर दोगुनी पेनाल्टी भरनी पड़ सकती है

नई दिल्ली

पिछले साल की तुलना में इस साल इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की डेडलाइन मिस करने पर दोगुनी पेनाल्टी भरनी पड़ सकती है। पिछले साल आईटीआर डेडलाइन मिस करने के कुछ महीनों तक के लिए यह पेनाल्टी 5,000 रुपये था। लेकिन, इस बार यह 10,000 रुपये होगा। हालांकि, देर से इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की यह पेनाल्टी तभी लागू होगी। जब नेट इनकम (जरूरी छूट और डिडक्शन लागू करने के बाद) 5 लाख रुपये से अधिक होती है। अगर किसी टैक्सपेयर के लिए वित्तीय वर्ष में नेट इनकम 5 लाख रुपये से कम होता है तो उन्हें 1,000 रुपये तक की पेनाल्टी देनी होगी।

For News and Advertisement

क्यों देनी होगी दोगुनी पेनाल्टी

सामान्य तौर पर किसी भी व्यक्ति के लिए इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की डेडलाइन 31 जुलाई होती है। इस डेडलाइन के बाद 31 दिसंबर से पहले इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने पर 5,000 रुपये की पेनाल्टी देनी पड़ती थी। 31 दिसंबर के बाद लेकिन 31 मार्च से पहले रिटर्न फाइल करने के लिए यह पेनाल्टी बढ़कर 10,000 रुपये हो जाती है। चूंकि, इस बार पहली डेडलाइन ही 31 दिसंबर तक बढ़ चुकी है, ऐसे में इसके बाद इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने पर 10,000 रुपये की पेनाल्टी देनी होगी। इस मामले से जुड़े जानकारों का कहना है कि इस बार टैक्सपेयर्स को डेडलाइन मिस करने पर इसलिए दोगुनी पेनाल्टी देनी पड़ सकती है। क्योंकि इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 234F में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

इस सेक्शन के तहत, आईटीआर फाइल नहीं करने पर दो टियर में लेट फीस वसूलने का प्रावधान है।अगर कोई टैक्सपेयर आईटीआर फाइल करने की डेडलाइन मिस कर देता है, लेकिन 31 दिसंबर से पहले आईटीआर फाइल कर देता है तो उनसे 5,000 रुपये पेनाल्टी वसूला जाएगा। वहीं, अगर कोई टैक्सपेयर दूसरी डेडलाइन मिस करने के बाद 1 जनवरी से लेकर 31 मार्च के बीच में टैक्स फाइल करता है तो उनसे 10,000 रुपये पेनाल्टी के रूप में वसूला जाएगा।

For News and Advertisement

हालांकि, एक वित्त वर्ष में 5 लाख रुपये से कम कमाई करने वाले टैक्सपेयर्स के लिए पेनाल्टी की रकम 1,000 रुपये ही है। अगर एक वित्त वर्ष में किसी व्यक्ति ने खुद या किसी दूसरे के विदेशी दौरे पर 2 लाख रुपये या इससे ज्यादा की रकम खर्च की है। तो उन्हें इनकम टैक्स भरना होगा। अगर किसी व्यक्ति ने एक वित्त वर्ष में 1 लाख रुपये से ज्यादा इलेक्ट्रिसिटी बिल भरा है तब भी इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करना होगा। किसी बैंक या सहकारी बैंक के करंटी में एक वित्त वर्ष में कुल 1 करोड़ रुपये या इससे ज्यादा की रकम डिपॉजिट की है तब भी इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करना होगा।

 

 

Missing deadline to file income tax returns may result in double penalty