गुंडागर्दी…. ड्राइवर के शरीर पर चाकूओं से जख्म बना सारी रात रगड़ते रहे नमक

गुंडागर्दी…. ड्राइवर के शरीर पर चाकूओं से जख्म बना सारी रात रगड़ते रहे नमक

जालन्धर (लखबीर)

शहर में क्राइम का ग्राफ गिरने की बजाए दिन प्रति दिन बढ़ता जा रहा है। लोगों के दिलों में किसी को खत्म करने के भय बिल्कुल खत्म हो चुका है। इसी की तरह का मामला जालन्धर के ट्रांसपोर्ट नगर में एक ड्राइवर के साथ सामने आया, जिस दौरान दो ट्रांसपोर्टर भाईयों हनी, मनी व उनके मुनीम छोटू ने सिर्फ चाकूओं से गोंदा ही नहीं बल्कि उसके जख्मों पर दो घंटे तक नमक भी रगड़ते रहे। फिल्हाल पुलिस ने ड्राइवर सतनाम के बयानों के आधार पर 307 जैसी संगीन धाराओं सहित मामला दर्ज कर लिया है। वहीं दूसरी ओर थाना 1 की पुलिस ने ट्रांसपोर्टर हनी को काबू कर लिया है। वीरवार रात को उसे थाने लाया गया तथा उसके बयान दर्ज किए गए।

रात भर चाकूओं से गोंदा…

सतनाम सिंह ने बताया कि ट्रांसपोर्टर भाईयों हनी, मनी व मुनीम छोटू रात भर बेसबैट से पीटते रहे। इतना ही नहीं उन्होंने चाकू से उसके पूरे शरीर पर जख्म बनाए तथा उस पर नमक रगड़ते रहे। सतनाम अनुसार वह तड़पता रहा पर उसकी एक न सुनी। शरीर पर चाकूओं से जख्म बनाने के बाद नमक लगाकर दोनों भाई हनी व मनी तथा मुनीम छोटू एक तरफ बैठकर हंसते रहे। जख्मों को न सह कर पाने के बाद वह बेहोश हो गया तथा उसके बाद उसे कब वह रास्ते पर फेंक कर चले गए, उसे नहीं पता।

एक्सीडेंट के बहाने किया अधमरा…

सतनाम ने बताया कि मुनीम छोटू व ट्रांसपोर्टर मनी उसके साथ पहले से लागतबाजी रखते थे, जिन्होंने गाड़ी का एक्सीडेंट होने के बहाने उसे इतने जख्म दिए हैं। सतनाम ने बताया कि जब वह हरियाणा से जालन्धर गाड़ी लेकर आया था, तो रास्ते में उसका ट्रक कहीं भिड़ गया था, जिसके बहाने उसको अधमरा किया गया है।

पुलिस ट्रांसपोर्टर पर दिखी मेहरबान…

वहीं थाना 1 में काबू किए गए ट्रांसपोर्टर हनी को लाया गया। रात 8.30 बजे के करीब कब मीडिया थाने पहुंचा तो काबू किए ट्रांसपोर्टर हनी को आराम से बिठाया गया तथा उसके साथ इस तरह ट्रीटमेंट किया गया जैसे वह कोई आरोपी न हो कर कोई मेहमान हो। इस दौरान हनी के साथ कुछ रिश्तेदार व एक कांग्रेसी कौंसलर भी मौजूद था। इसके बाद उसे कुछ देर बाद छोड़ भी दिया गया। मामले के आईओ कुलविन्द्र सिंह ने बताया कि फिल्हाल हनी को फगवाड़े के रास्ते पर भागते हुए काबू कर लिया गया है जबकि दूसरा भाई मनी व मुनीम छोटू अभी ग्रिफ्त से बाहर हैं। वहीं इस संबंधी जब एसएचओ राजेश कुमार से बात की गई तो उन्होंने कहा कि कानून के आधार पर ही हनी को घर भेजा गया है, इसमें कोई आपत्ति नहीं है। आईओ कुलिवन्द्र सिंह ने बताया कि एफआईआर नंबर 60, 19 मई 2021 को 307, 365, 379 बी, 323, 324, 34 आईपीसी, 388 समेत कई धाराओं सहित मामला दर्ज करके छोटू पर मनी की ग्रिफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

किस आधार पर छोड़ा पता नहीं -डल्ली

इस संबंधी जब एडीसीपी हरविन्द्र सिंह डल्ली से बात की तो उन्होंने कहा कि एसएचओ ने ट्रांसपोर्टर हनी को किस आधार पर छोड़ा है, इस बारे जानकारी नहीं है पर कानून के आधार पर ग्रिफ्तारी के बाद आरोपी को छोड़े जाने का प्रावधान जरूर है।

मैं तो सहानभूति के लिए आया था- निम्मा

इस संबंधी कांग्रेसी कौंसलर निर्मल सिंह निम्मा ने कहा कि वह थाने किसी की फेबर करने नहीं बल्कि सहानभुति के लिए आए थे। उन्होंने पुलिस पर किसी तरह का प्रेशर नहीं डाला है। हनी, मनी के पिता उनके दोस्त थे, जिनकी मौत हो चुकी है। बुर्जग महिला के साथ आए थे।