हाय ओए… पै गया सियापा…. धोखे नाल लई नौकरी ते हुण चला रिहै टोके ते टोका

हाय ओए… पै गया सियापा…. धोखे नाल लई नौकरी ते हुण चला रिहै टोके ते टोका

जालन्धर (लखबीर)

वैसे तां सरकारी नौकरी लई कोई भी बंदा हर तरह दा जुगाड़ लगाऊण दी कोशिश करदा है ते कई बार टेबल दे हेठां तों माया दे के भी नौकरी लैण लई इच्छा जाहिर कर लैंदा है पर हैरानी तां उदों हुंदी है जदों सरकार नूं गुमराह करके नौकरी हासल कर लई जावे ते उह वी ए कलास…। हुण गल्ल करदे हां मुद्दे दी… जी हां, एह कोई होर नहीं बल्कि उह टोका है जिहड़ा जदों चलदा है तां इक नहीं, दो नहीं बल्कि हत्थ दीयां दस्से उंगलां ही टुक्क देंदा है। पुरानी गल्ल है कि इक जगा नापण वाले दे परिवार चों सरकारी नौकर दी मौत हो गई जिसदी नौकरी किसे उस मैंबर नूं मिलणी सी जो वेहला होणा सी पर इस चालाक लूंमड़ी ने अजेही गेम चलाई कि नौकरी आपणे कबजे च कर लई। मामला लोकां दे ध्यान च आउण तों बाद शिकायतां भी चल निकलियां।

पर हुण पै गया रौला…

हौली-हौली जदों इह मामला कुज्ज जागरूक लोकां दे ध्यान च आया तां उहनां ने कई दरवाजे खड़काउणे शुरू कर दित्ते ने। जिस कारण इह पंगा कदे भी भड़क सकदा है। फस्सण नाल नौकरी जान दा खतरा तां मंडरा ही रिहा है, बल्कि 420 दा मामला भी दर्ज हो सकदा है।

-अच्छा फेर मिलांगे…

जल्दी पढ़ें… रोड़पति से करोड़पति बनने वाले 4 वसीका नवीसों की कहानी