दोस्त, दोस्त न रहा…9 महीने पहलां जिसदे पैर चुकवाए सी, उसने ही चुकवात्तीयां लत्तां

दोस्त, दोस्त न रहा…9 महीने पहलां जिसदे पैर चुकवाए सी, उसने ही चुकवात्तीयां लत्तां

जालन्धर (लखबीर)

वाह बई कुर्सी… कुर्सी दा लालच किसे सियासी बंदे च नहीं बल्कि सरकारी मुलाजमां च बोत हुंदा है क्योंकि बोत सारे अजेहे विभाग हुंदे हन जित्थे कुर्सी दा बाहला ही मुल्ल पैंदा है। बोरे भर के चढ़ावा चढ़ाया जाण तों बाद कुर्सी नसीब हुंदी है अते उस तों बाद फिर ओही पैसे पूरे करन अते आपना ढिड भरन लई रिश्वत दी खेड भी रज्ज के खेडी जांदी है। इना ही नीं कुर्सी लई तां कई बार बहुत सारीयां अंदरूनी लड़ाईयां भी करण लई मजबूर हो जांदे हन अते कई बार यारां दी यारी भी दाअ ते लग जांदी है। अजेहा ही मामला अजकल जालन्धर जिले च देखन नूं मिल रेहा है, जिथे इक मुलाजम ने करीब 9 महीने पहलां मलाईदार विभाग च कुर्सी लैण लई आपने ही यार दी कुरबानी लै लई सी ते हुण दोबारा दूसरे यार नीं आपने दाअ-पेच लगाके फेर तों ओही कुर्सी ते कब्जा जमा लिया है। इस गल्ल दी चर्चा पूरे जोरां ते चल रही है कि इक सिरनावीं ने दूजे सिरनावीं नूं 9 महीनियां बाद धोबी पटका मार ही दित्ता है।

फेर पहुंचिया आकावां कोल…

9 महीने चंगी तरां दाती फेरन तों बाद भी इस मुलाजम दा ढिड अजे पूरी तरां भरिया नहीं है क्योंकि हुण उह फेर तों नवें आए आपने यार लई खूह पुट्टण लग पेया है। चाहे अजे बदली होई नूं कुझ घंटियां दा ही समां होया है ते पुराना सिरनावीं फेर आपने आकावां दी शरण च हाजरी भरण लग पेया है। पता चलिआ है कि अज तड़के दा ही उह कदे कित्ते ते कदे कित्ते खैर मंगण लई हाजरियां भर रेहा है।

मैनूं कोई नहीं बदल सकदा…

लो जी कर लो गल्ल… आपने आप नूं फन्नी खां समझण वाला यानि कि कुआरा बुड्ढा मुलाजम कहंदा हुंदा सी कि इस बार मैं अजेही सैटिंग करके आया हां कि मैनूं जल्दी कोई नहीं बदल सकदा पर अजे 9 महीने भी पूरे नहीं होए सन कि जिसदे इसने पैर चकवाए सन उसे ने ही इस दीयां लत्तां चुकवा दित्तीयां हन। हुण केहंदा फिरदा है कि वड्डे अधिकारी ने बदलियां दी लिस्ट च मेरा नाम तां भुलेखे नाल पा दित्ता है।

शिकायतां दे टोकरे ने लई बली…

दस्स दईये कि इस फन्ने खां यानि की बुढे कुआरे मुलाजम दीयां शिकायतां लई वड्डे अधिकारियां ने इक अलग ही वड्डा बक्सा लगाया होया है क्योंकि सीट ते बैठण तों बाद इह खुद अफसर बन जांदा है ते नाल बैठा अफसर इसदा मुलाजम जापदा है। कम्म कराउण आण वालियां कोलों माया भी इस तरां लैंदा है कि जिवें उहनां ने इस कोलों व्याज के पैसे लए होण ते उहनां दा व्याज लेट हो गया होवे। इसदे अजेहे वतीरे कारण लम्बे समय तो शिकायतां ही शिकायतां अधिकारियों कोल पहुंचीयां होईयां हन। भरे होए शिकायतें दे टोकरे ने इक बार फिर इसदी कुर्सी दी बली लै लई है। जेकर हुण वड्डे अधिकारी ने बदली रोकण दी कोशिश तां उसदा भी विरोध हो सकदा है क्योंकि इक संस्था वल्लों इसदा पूरा हिसाब लेया जा रेहा।