तहसील दा एह अफसर होया बेलगाम, नौजवान दे जुत्तियां मारन तक होया उतारू

तहसील दा एह अफसर होया बेलगाम, नौजवान दे जुत्तियां मारन तक होया उतारू

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

जालन्धर (लखबीर)

जालन्धर तहसील च धक्केशाही चरम सीमा ते पहुंच गई है अते आम जनता दा हर तरां नाल शोशण कीता जा रेहा है। हैरानी दी गल्ल तां एह है कि एह धक्केशाही ते शोशण कोई होर नहीं सगों सरकारी कुर्सियां ते बैठे कुझ अधिकारी अते कर्लक कर रहे हन। लोकां कोलों कम्म करवाउण दे नां ते शरेआम रिश्वत वसूली जा रही है अते परेशान कीता रेहा है। जेकर लोकां दी मन्नी जावे तां एक-एक कम्म लई 10 हजार रुपए रिश्वत वजों देण तों बाद भी अफसरां अते कर्लकां दे गुस्से दा शिकार होणा पै रेहा है। इहनां दफ्तरां च रोजाना कोई न कोई हंगामा खड़ा हो रेहा है जो लोकां लई मुशिकल बनदा जा रेहा है पर लोकां दी परेशानी वल्ल न तां सीनियर अधिकारियां दा ध्यान है अते न ही शरेआम खेडी जा रही रिश्वतखोरी दी खेड वल्ल विजीलैंस ही कोई नजर मार रही है। हुण गल्ल करदे हां मुद्दे दी…

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

बदमाशी दा ताजा सबूत…

सुण के हैरान होण वाली गल्ल है कि एक ए-कलास अफसर लोकां नूं शरेआम जुत्तियां मारन दी गल्ल कहे अते धमकियां दिंदा होवे, उह भी ड्यूटी दौरान अते सरकारी कुर्सी ते लत्तां रखके। ताजा मामले अनुसार एस अफसर ने तहसील च कम्म करन वाले नौजवान नूं फोन करके जुत्तियां मारण दी गल्ल कही अते देख लैण दीयां धमकियां दे दित्तीयां। उस नौजवान दा कसूर इन्ना सी कि उसने अफसर कोल दसतावेज पेश करण लई पार्टी नूं ही भेज दित्ता सी, अजिहा करण नाल अफसर दी 10 हजार दी रिश्वत मरदी दिखाई दित्ती ते उसने किसे होर नौजवान दा फोन लै के एह कारा कर दित्ता। अफसर दी इस करतूत दी रिर्काडिंग भी मौजूद है, जिसदे आधार ते शिकायत भी हो सकदी है।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

दो बार सटिंग आप्रेशन तों बाद मंग चुक्का माफी…

एह विवादित अफसर दा दो बार पहलां सटिंग आप्रेशन हो चुका है अते शहर दे नामवर वकीलां ने भी रिश्वतखोरी फैलाउन दे चक्कर च इसदी शिकायत कीती सी। जिस तों बाद इसने कन्नां नूं हत्थ ला के तौबा भी कीती सी अते माफी मंग के आपनी जान छुड़वाई सी पर बावजूद इसदे इसने आपने रवैया च सुधार नहीं कीत ते हुण लोकां नूं फोन ते जुत्तियां मारन ते उतारू हो गया है। जेकर इस नूं जल्दी नत्थ न पाई तां माहौल होर खराब हो सकदा है।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

पैसे इक्ट्ठे करण लई रखे मुलाजिम…

अफसरां ने पैसे इकट्ठे करण लई अगे नौजवान रखे होए हन। शाम नूं सारे कम्म दा हिसाब करके कुलैक्शन कीती जांदी है। सारी कुलैक्शन दा हिसाब कर्लकां दे जिम्मे हुंदा है। शरेआम तहसील चों रिश्वत दी कुलैक्शन होण तों बाद भी कोई कार्रवाई न होना सीनियर अधिकारियां दे नाल मिले होण वल इशारा करदा है।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

इन्सानां नाल नफतर ते जानवरां नाल प्यार…

तहसील दा इह अफसर आपने आप नूं सिद्धा (इमानदार) दस्दा है क्योंकि कहंदा है कि उह इन्सान दे नाल-नाल जानवारां नाल भी बहुत प्यार करदा है। जेकर लोकां दी मन्नी जावे तां एह अफसर इन्सानां दे नाल-नाल जानवरां दे सहारे भी पैसे ही कमाउंदा आ रेहा है।

मैं हर जगह जान लई तैयार…

जिस नौजवान दा फोन लै के इस अफसर ने दूजे नौजवान नूं धमकियां अते जुत्तियां मारन दी गल्ल कही है, उसदे अनुसार अफसर दी जित्थे मर्जी शिकायत कीती जावे, उह नाल जान लई तैयार है क्योंकि उसदा फोन मंगके अफसर ने अजिहा कारा कीता है।

मैं तां आपना पुत्त समझ के कडियां गालां…

हैरानी दी गल्ल है कि अफसर ने जिस नौजवान नूं माड़ा-चंगा बोलिया, उस नूं बाद च केहा कि तूं मेरे पुत्त वरगा हैं। मैं तेनूं पुत्त समझ के गालां कडियां हन। अफसर दा एह जवाब सुन के हैरानी हुंदी है कि उह सरकारी दफ्तर अते सरकारी कुर्सी ते बैठके आपनी गुंडागर्दी दा सबूत दे रेहा सी।