इस मलाईदार विभाग में 10 प्राइवेट करिंदों की उलंगिलों पर नाचता है पूरा दफ्तर

इस मलाईदार विभाग में 10 प्राइवेट करिंदों की उलंगिलों पर नाचता है पूरा दफ्तर

जालन्धर (लखबीर)

पुरानी कहावत है कि आटे में नमक चल जाता है पर नमक में आटा नहीं चल सकता। इसी तरह की कहावत इस समय जिले के एक मलाईदार विभाग पर सटीक बैठ रही है क्योंकि वहां पर चाहे सरकारी मुलाजिम न के बराबर हैं पर प्राइवेट करिंदों का मेला लगा हुआ है। विभाग में कौन सी फाइल पास होगी तथा किस पर रोक लगाई जाएगी, यह भी उक्त प्राइवेट करिंदे ही तय करते हैं। विभाग अन्दर प्राइवेट करिंदों की इस तरह तूती बोलती है कि एजैंटों से लेकर आवेदकों का काम इनकी परमिशन के बिना नहीं हो सकता है। हैरानी की बात है कर्लक तो कर्लक अधिकारी भी इनके आगे बेबस दिखाई देते हैं। हम मलाईदार विभाग में प्रत्येक प्राइवेट करिंदे की पूरी जानकारी प्रदान करने की कोशिश करेंगे तथा इन्होंने कौडियों से करोड़ों तक सफर कैसा तय किया यह भी बताने का यत्न किया जाएगा। साथ ही विजीलैंस विभाग, सीआईडी, डिप्टी कमिश्नर के साथ-साथ प्रशासन को जगाने की कोशिश की जाएगी।

कौन हैं ये प्राइवेट करिंदे…

मलाईदार विभाग में लम्बे समय से अनु, कालू, हरीश, मिन्टू, कामरेड ने आपने पैर जमा रखे हैं। कई वर्षों से जनता से ठग्गी मारकर यह प्राइवेट करिंदे कौडियों से करोड़ों तक पहुंच चुके हैं। इतना ही नहीं गिठमुठिये प्राइवेट करिंदे अनु ने आपनी फैमिली से रमन तथा प्राइवेट करिंदे बिट्टू को कुर्सी सौंप रखी है, जिस संबंधी कभी अधिकारी ने छानबीन करने की जहमत तक नहीं उठाई। रिश्तेदार तथा नीचे रखे बिट्टु करिंदे के साथ मिलकर रोजाना हजारों की ठग्गी करने का माहिर गिठमुठिया अनु आपने आप को अधिकारी का पी.ए. बताकर एजैंटों व जनता को गुमहार करता आ रहा है। इसी तरह प्राइवेट करिंदे कालू ने आपने नीचे विनोद नाम के करिंदे को पाल रखा है तथा इनका आका इनके सहारे पूरी लूट मचा रहा है। वहीं एक लड़की व एक अन्य प्राइवेट करिंदा लम्बे समय से दफ्तर अन्दर टिके हुए हैं।

आपने आप को समझते हैं अधिकारियों व कर्लकों से भी ऊपर…

मलाईदार विभाग में लम्बे समय से 6 प्राइवेट करिंदों ने आपना सामराज्य बना रखा है। हैरानी की बात है कि अब इन प्राइवेट करिंदों ने आपने पास 4 अन्य करिंदों को पाल लिया है, जो इनके गलत कामों में हिस्सेदार बन चुके हैं। यहां बताने योग्य है कि इन सभी प्राइवेट करिंदों को न अधिकारी तथा न ही कोई कर्लक सैलरी प्रदान करता है पर बावजूद इसके उक्त प्राइवेट करिंदे पूरी ड्यूटी निभा रहे हैं।

निक्कमे व कामचोर कर्लकों ने पैदा किए करिंदे..

सरकार ने विभिन्न विभागों को कोई भी प्राइवेट करिंदा न रखने की हदायतें जारी कर रखी हैं पर निठल्ले व कामचोर कर्लक व अधिकारी इन करिदों को रखकर आपना काम आसान करने के चक्कर में सरकारी रिर्काड से खिलवाड़ करने के लिए परमिशन दे रहे हैं, जिस कारण लोगों का कीमती रिर्काड इन करिंदों के हाथों की कठपुतली बन चुका है।

मलाईदार विभाग के इन प्राइवेट करिंदों की तस्वीरों सहित पूरी डिटेल भी जल्दी जनतक की जाएंगी ताकि शायद देर बाद ही सही विजीलैंस, सीआईडी या प्रशासन को जगाया जा सके। साथ ही इनके द्वारा काली कमाई से कौडियों से करोड़ों तक के सफर की भी जानकारी दी जाएगी। इनकी एक कमरे से कोठियां कैसे बनीं यह भी सामने लाया जाएगा।