गुस्ताखी माफ! पर सच्च है… समार्ट कंपनी दे मुलाजिम भी समार्ट? जल्दी बुझेगा समार्ट कंपनी दा ‘दीप’… मलाईदार सीटां ते मुलाजिमां नूं बैठाउण बदले करदा आ रेहा मोटी ‘हफ्ता’ वसूली

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है… समार्ट कंपनी दे मुलाजिम भी समार्ट? जल्दी बुझेगा समार्ट कंपनी दा ‘दीप’… मलाईदार सीटां ते मुलाजिमां नूं बैठाउण बदले करदा आ रेहा मोटी ‘हफ्ता’ वसूली

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

जालन्धर (लखबीर)

लो जी, हुण मलाईदार विभाग च मलाईदार सीटां ते बैठाण लई सेवा पानी लैण दा मामला सामने आया है। जी हां, मलाईदार विभाग ने जिस समार्ट कंपनी नूं विभाग दा कम्म सौंपिया होया है, उस समार्ट कंपनी दा इक ‘दीप’ नाम दा इचांर्ज मलाईदार सीटां ते बैठान बदले मुलाजिमों कोलों मोटी ‘हफ्ता’ वसूली करदा रेहा है, जिस कारण भ्रष्टाचार अते रिश्वतखोरी धड़ल्ले नाल चल रही है। कहंदे ने कि जिस पेशे च बच्चे नूं रिश्वत दे के पढ़ाया जावे तां उह बच्चा पहलां अपने वल्लों दित्ती रिश्वत दे पैसे पूरे करन लई हर तरां दे गल्त कम्म करदा है। इसी तरह समार्ट कंपनी दा इह समार्ट ठग्ग लम्बे समय तों मुलाजिमों नूं मलाईदार सीटां ते बैठाके मोटी हफ्ता वसूली करदा आ रेहा है, जिस कारण मुलाजिम बिना रोक-टोक तों गलत कम्म कर रहे हन। हुण करदे हां मुद्दे दी गल्ल… जी इह ओह समार्ट कंपनी है जो मुलाजिमों दे कारनामियां तों लगातार हिट लिस्ट च बनदी आ रही है। चाहे कंपनी दे मुलाजिमां दे घोटालियां दियां परतां खुलदीयां आ रहीयां हन पर इहनां मुलाजिमां नूं सजा सिर्फ सीट या शहर बदलन दी ही मिलदी आ रही है, जिस कारण इक शहर तों दूजे शहर जा के भी इह मुलाजिम आपने कारनामियां नूं अंजाम दिंदे आ रहे हन।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

जल्दी बुझेगा इह दीप… एसटीसी दरबार पुज्जा मामला…

कहदें ने कि किसे भी दीवे यानि कि दीप दी उम्मर उन्नी देर ही हुंदी है, जदों तक उसनूं तेज हवा न लगे जा फिर उस च तेल खत्म न हो जावे। समार्ट कंपनी दे इस दीप दा तेल भी खत्म होण वाला ते इस नूं तेज हवा नीं बल्कि हनेरी दा सामना करना पवेगा क्योंकि इस दे कारनामे समार्ट कंपनी दे सीनियर अधिकारियां दे नाल-नाल एसटीसी दे दरबार पहुंच गए हन।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

आउन वाले दिनां च हो सकदे ने बड्डे खुलासे…

दस्स देईये कि आउण वाले दिनां च इस दीप नाल जुड़े सारे मामलियां तों पर्दा उठ जावेगा। इसदी सेवा पानी लै के मुलाजिमों नूं मलाईदार सीटां प्रदान करन वाले मामले तों पर्दे उठण तों बाद बहुत सारे मुलाजिम भी फस्सणगे क्योंकि उहनां ने इस दीप दी शैह ते बहुत गलत कम्म कीते होए हन।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

दिन वेले होण वाले कम्म हुंदे रहे रातां नूं…

दीप दी शैह ते मुलाजिम दफ्तर बंद होण यानि कि 5 बजे तों बाद भी कम्मां नूं अंजाम दिंदे आ आए हन। रात साढे 7 बजे तों बाद जिहनां मुलाजिमां दी आईडी चों कम्म होया, उह वी जल्दी सामने आ जावेगा अते जिहड़े कर्लकां या एजैंटां दे वाहन वरते गए हन, उहनां दा भी इहनां घोटालियों तों निकलणा मुशिकल साबित होवेगा।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…