गुस्ताखी माफ! पर सच्च है… न हम बदले, न हमारी सीट… पिछले 6 सालां तों इक ही सीट ते कुंडली मारके बैठा गिदड़सिंगी वाला ‘सिंग’

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है… न हम बदले, न हमारी सीट… पिछले 6 सालां तों इक ही सीट ते कुंडली मारके बैठा गिदड़सिंगी वाला ‘सिंग’

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

जालन्धर (लखबीर)

जिला दे इक मलाईदार विभाग दा हाल एह हो चुक्का है कि इथों दियां कुर्सियां ते जिवें किसे ने फैवीकोल लगाके मुलाजमां नूं बैठा दित्ता होवे। इस महकमे दे मुलाजमां च सीनियर अधिकारियां दा खौफ भी खत्म हुंदा प्रतीत हो रिहा है। बीते समय दी गल्ल करिए तां जिले दे इक कर्लक की बदली कीती गई सी पर उसने उह सीट छड्डना मुनासिफ नहीं समझिया ते कोई ना कोई जुगाड़ लगाके उह फिर उत्थे ही फिट हो गया। इन्ना ही नहीं बदली तों बाद भी कई सालां तक उसने सीट नहीं छड्डी। तुहानूं इह सुण के भी हैरानी होवेगी कि इस संबंधी उथों दे अधिकारी ने इह गल्ल केह के पल्ला झाड़ लिया के मेरे कोल कम्म करण लई कोई होर मुलाजम ही नहीं है।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

इह तां सी पुराने समय दी गल्ल दी। हुण करदे हां गल्ल अज-कल दी… जी हां, इसी तरह इक होर सोसाइटी अधीन कम्म करण वाला मुलाजम पिछले करीब 6 सालां तों कुर्सी नाल इंज कुंडली मार के बैठा होया है जिवें पूरा महकमा ही उसने गोद लिया होवे। होर तां होर इको सीट अते इको कम्म च लग्गा होण दे बावजूद उसनूं कदे बदलन दी कोशिश ही नहीं कीती गई। जेकर किसी अधिकारी ने हिम्मत कीती भी तां उसने फिर अजेहियां गोटियां फिट कीतियां कि दोबारा उत्थे ही आके बैठ गया। वैसे तां भ्रष्टाचार नूं रोकण लई सरकार दी पालिसी है कि किसे भी सीट ते 3 सालां तों वद्ध किसे मुलाजम नूं ना बैठाया जावे पर इस गिंदड़सिंगी वाले सिंग दे मामले च गल्ल समझ तों परे वाली जाप रही है।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

कई अधिकारी आए ते कई गए पर इह नहीं हिलिया…

लोकां अनुसार इको सीट ते पिछले 6 सालों तों कब्जा करके बैठे इस मुलाजम कोल शायद अधिकारियां दा कोई वीक पवाइंट है, जो इस नूं बदलन बारे सोचण तों भी डरदे हन। इस महकमे अंदर कई अधिकारी आए ते कई गए पर किसे ने इस दी सीट नूं हिलाउण दी जुर्रत तक नहीं कीती। लोकां अनुसार शायद इसदे कोल कोई गिदड़सिंगी है, जो अधिकारियां नूं सुंघा दिंदा है। लोकां अनुसार इह “ना हम बदले, ना हमारी सीट” वाली थयूरी ते चल रेहा है क्योंकि पिछले 6 सालां च आपना कौड़ा सुभाव भी नहीं बदलिया।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

फस्स सकदै रौले च…

अज कल किसी भी सरकारी कम्म लई अंपाइंटमैंट लैनी जरूरी हो गई है अते जेकर इस महकमे दी गल्ल करिए तां इत्थे अंपाइंटमैंट लैना सप्प दे मूंह च हत्थ पाण वाली गल्ल जापदा है। अज कल दबी जुबान च एजैंट ते लोक गल्लां कर रहे हन कि इस खेल च इसे गिदड़सिंगी वाले मुलाजम दा हत्थ हो सकदा है क्योंकि इसदे कोल इस कम्म दी चाबी भी मौजूद है। जे कित्ते सही ढंग नाल इन्कवारी हो गई तां इसदे फस्सन दे चांस वादू होणगे।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…