तहसील दे कमाऊ पुत्त महकमे दा इक होर मामला; बड़े मीयां तो बड़े मीयां, छोटे मीयां सुभान अल्लाह…! जदों माया गोलक च पैन तों बाद अधिकारी ने कीते साइन…

तहसील दे कमाऊ पुत्त महकमे दा इक होर मामला; बड़े मीयां तो बड़े मीयां, छोटे मीयां सुभान अल्लाह…! जदों माया गोलक च पैन तों बाद अधिकारी ने कीते साइन…

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

जालन्धर (लखबीर)

बड़े मीयां तो बड़े मीयां, छोटे मीयां सुभान अल्लाह…! लो जी अज गल्ल कर रहे हां, तहसील दे उस विभाग दी, जिसनूं जिला प्रशासन दा कमाऊ पुत्त किहा जांदा है। इह विभाग जिथे रोजाना लखां-करोड़ां रुपए दी कमाई करके दिंदा है, उथे दूजे पासे इस सरकारी कमाई च अधिकारी तां अधिकारी कर्लक भी अपने हत्थ धौन तों गुरेज नहीं करदे। लोकां दा कम्म करन दे एव्ज च टेबल दे थल्लों दी कमाई बी खूब कीती जांदी है। चाहे इह सारी कमाई अधिकारियां कोल पहुंचदी होवे पर कोई न कोई दाअ पेच खेल के कर्लक भी बहंदी गंगा च हत्थ धौन च पिछे नहीं रहंदे। चलो हुण गल्ल करदे हां मुद्दे दी… इसी तरह अज मामला सामने आया जिथे अधिकारी तों लुको के कर्लक ने रगड़ा लगाउन दी कोशिश कीती पर उह फड़िया गया क्योंकि अधिकारी ने कागजां ते हस्ताखर करन तों साफ मना कर दिता। बेशक कम्म कल दा निबड़ चुक्का सी पर बिना रौकड़ियां तों अधिकारी ने अगला कम्म रोक दित्ता जिस कारण सियापा पै गया।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

किवें आया मामला ध्यान च…

इह मामला उदों प्रकाश च आया जदों एक डीलर ने रौला पाउना शुरू कर दित्ता कि पैसे देन तों बाद बी उसदे कम्म ते रोक क्यों लगाई गई है अते अधिकारी हस्ताखर क्यों नहीं कर रिहा। डीलर जदों गुस्से च लाल-पीला होके अधिकारी कोल गया ते उसने दस्सया कि माया तुहाडी गोलक च पा दित्ती है फेर भी तुसीं हसताखरां ते आके कम्म क्यों रोक दिता है पर अधिकारी ने रौकड़े न मिलन दी गल्ल कही, जिस तों बाद मामला संगीन हुंदा देखके कर्लक ने गलती मन्नी ते माया अधिकारी दी गोलक च पाई जिस तों बाद हस्ताखर हो सके। डीलर ने किहा कि कर्लक किसे जोगा नहीं, जिसने सारे बने बनाए कम्म दा बेड़ा गर्क करके रख दित्ता, जिहड़ा कम्म कल ही जाना सी उसनूं बिना गल्ल तों रुकवा दित्ता इस कर्लक ने।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…