गुस्ताखी माफ! पर सच्च है… लेख साडे लिखे साहब ने कच्ची पैन्सल नाल…

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है… लेख साडे लिखे साहब ने कच्ची पैन्सल नाल…

जालन्धर (लखबीर)

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

लेख साडे लिखे रब्ब ने कच्ची पैन्सल नाल… पर इह नसीब चाहे कच्ची पैन्सल नाल लिखे गए होण या नहीं पर तहसील दा इक अजिहा अधिकारी भी है जो लोकां दीयां रजिस्ट्रियां ते उहनां दे नसीब कच्ची पैंसल नाल जरूर लिखदा आ रिहा है। जी हां, तहसील अन्दर होण वालियां बहुत सारीयां रजिस्ट्रियां उप्पर अधिकारी कच्ची पैन्सल नाल मार्क करदा आ रिहा है। दस्सणयोग है कि साहिब जदों दे जालन्धर आए हन, ओदों तों ही पैन दी बजाए कच्ची पैन्सल दा इस्तेमाल कर रहे हन, जिस तों उनहां दी कारगुजारी शक्क दे घेरे च आउंदी है।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

क्यों मार्क हुंदी है रजिस्ट्री…

तहसील अन्दर होण वाली कोई भी रजिस्ट्री या होर दस्तावेज सब तों पहलां कर्लकां कोल पहुंचदे हन ते उह कागज़ां दी पड़ताल तों बाद दस्तावेज साहिब अगे पेश करदे हन तांकि साहिब आपनी तस्लली तों बाद उस नूं मार्क कर सकण अते दस्तावेद भी क्रास चैक हो जान ते गल्ती दी कोई गुंजाइश न रह सके। इस तों बाद रजिस्ट्री कर्लक दे नाल-नाल साहिब दी जिम्मेवारी भी बराबर दी बन जांदी है पर इस मामले च साहिब आपना पल्ला झाड़दे साफ दिखाई दिंदे हन।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…

आखिर क्यों पैन्सल दा हो रिहा इस्तेमाल…

लोकां अनुसार पैन्सल नाल मार्क करन दा सिद्धा-सिद्धा मतलब निकलदा है कि जेकर कदे रजिस्ट्री च कोई कमी निकल आवे या भुलेखे नाल जाली रजिस्ट्री हो जावे तां अधिकारी आपनी मार्किंग नूं साफ कर सकदा है क्योंकि उह पैन्सल नाल कीती हुंदी है। जेकर दस्तावेज तों साहिब दी मार्किंग खत्म हो गई तां उह किसी भी जंजाल विच्च नहीं फंस सकेगा। इस कारण लोकां च चर्चा बनी रहंदी है कि जिथे दूसरा अधिकारी पैन नाल मार्किंग करदा है उथे दूजे पासे इह अधिकारी पैन्सल नाल लोकां दीयां रजिस्ट्रियां मार्क करके उहनां दे लेख कच्ची पैन्सल नाल लिखदा आ रिहा है।

गुस्ताखी माफ! पर सच्च है…