गुस्ताखी माफ जनाब! पर सच्च है… साहब दे लाडलिया वे तहसील वाले दफ्तर ना जावीं…

गुस्ताखी माफ जनाब! पर सच्च है… साहब दे लाडलिया वे तहसील वाले दफ्तर ना जावीं…

गुस्ताखी माफ जनाब! पर सच्च है…

 

जालन्धर (लखबीर)

साहब दे लाडलिया वे तहसील वाले दफ्तर ना जावीं… एह पंजाबी गाना आज कल तहसील च बिल्कुल स्टीक बैठता प्रतीत हो रिहा है, पर इसदे लफजां च थोड़ा बहुता हेरफेर जरूर है। हेरफेर इह है कि दो दिन पहले तहसील दा इक अजिहा मामला सामने आया सी, जिस दौरान साफ होया सी कि इक अधिकारी दा ड्राइवर लोकां कोलों 100-200 रुपए दफ्तर अंदर जान लई ऐंट्री फीस वसूलदा आ रिहा सी। इह गुंडा टैक्स किस दे इशारे ते इक्ट्ठा कीता जा रिहा सी, इस बारे दस्सन दी जरूरत वी नहीं है, सारे समझदार ने। इस मामले तों पर्दा चुक्के जान तों बाद तहसील दे बहुत सारे लोकां ने खुशी मनाई अते धन्वाद करदियां किहा कि अजिहे ड्राइवर दा चालान होना जरूरी सी क्योंकि इह रोज कम्म करवाउन आन वाले लोकां नूं तंग परेशान करदा आ रिहा सी। होर तां होर लोकां ने इस खिलाफ मोर्चा खोलन दी तैयारी भी खिच्ची होई सी पर हुन एह लाडला दो दिनां तों रूपोश हो चुक्का है अते दफ्तर तां की तहसील दे लागे-शागे भी भटकदा दिखाई नहीं दित्ता।

गुस्ताखी माफ जनाब! पर सच्च है…