तहसील के मुलाजम व नंबरदार की जोड़ी ने रचा इतिहास; एैसे गोटियां फिट की कि करोड़ों की सरकारी जमीन करवा ली अपने नाम

जालन्धर (ब्यूरो)-
तहसील में भू-माफिया पूरी तरह से सरर्गम हो चुका है जिस की ताजा मिसाल में एक जाली पावर आफ अटारनी का मामला सामने आया था, जिस में चाहे पुलिस ने मामले दर्ज कर लिए हैं पर बावजूद इसके आरोपी आज भी खुलेआम घूम रहे हैं, जिस कारण अन्य भू-माफिया गिरोह के हौसले ओर बुलंद हो चुके हैं। इसी तरह के एक अन्य मामले में शहर के बीचों-बीच बसे पाश इलाके मास्टर तारा सिंह नगर की जमीन, जोकि वक्फ बोर्ड की थी, उसे सैंट्रल गर्वमैंट की शो करके अपने नाम करवा ली। ओर तो ओर इस मामले में इमानदारी दिखाने वाले एक अधिकारी को भी टारगेट बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही।
आखिर कौन है गेम प्लानर तथा कैसे घूमी गेम…
वक्फ बोर्ड की जमीन को अपने नाम करवाने वाला गेम प्लानर कोई ओर नहीं बलिक तहसील का एक ही नंबरदार है, जिसने अपने साथियों सहित बड़े घोटाले को जन्म दिया। इस मामले में गेम प्लानर ने कुछ तरह गोटियां फिट कीं कि अपने नीचे काम करने वाले मुलाजिम के नाम पर पहले जमीन करवा दी तथा उसके बाद अपने साथियों सहित तहसील के एक मुलाजम तथा अन्य के नाम पर रजिस्ट्रियां दर्ज करवा दी। इतना ही नहीं उक्त गिरोह ने रिकार्ड के साथ एैसा खिलवाड़ किया कि एक बार तो तहसील के सीनियर अधिकारियों ने भी दांतों तले जीभ दबा ली।
शुरू हो गया शिकायतों का दौर…
वहीं दूसरी ओर इस बड़े जमीनी घोटाले में विजीलैंस विभाग को शिकायत हो चुकी है तथा विजीलैंस इस मामले में जल्दी ही छानबीन के बाद नतीजे सुना देगी। विजीलैंस के नतीजे से पहले भू-माफिया गिरोह में परेशानी का आलम इस कदर बढ़ चुका है कि वह अधिकारियों की शिकायतें करने से भी गुरेज नहीं कर रहे। गेम प्लानर तहसील के ही कुछ भ्रष्ट मुलाजिम व एक नंबरदार है, जोकि हमेशा तहसील दफ्तर में देखा जा सकता है।