लो जी कर लो गल्ल… तहसील जालन्धर च लिखी जांदी एै जमीनां ते कब्जे दी कहानी…

जालन्धर (ब्यूरो)
लो जी कर लो गल्ल! जालन्धर तहसील तां सोने की खान ही बनदी जा रही एै। अजे जाली अटारनी दी अग्ग बुझी ही नहीं सी कि इक नवीं चिंगारी ने जन्म वी लै लेया। हुण नवीं कहानी इक तहसील कर्मचारी ने वसीका नवीस उर्फ नंबरदार नाल रल्ल के लिखी है। मित्तरो ए ओही बिल्लियां अक्खां वाला वसीका नवीस उर्फ नंबरदार एै जिहड़ा हमेशा तहसीलदार जानी के सब रजिस्ट्रार दे दफतर च देखन नूं मिलदा जांदा एै। ‘प’ अखर तों नाम शुरू होने वाले तहसील कर्मचारी ते इस बिल्लियां अक्खां वाले वसीका नवीस उर्फ नंबरदार दा एैना गूड़ा प्यार है कि देर शाम तक दोनों एक ही दफतर च बैठ सरकारी जमीनां ते कबजे करण सबंधी रणनीती तैयार करदे हन। एहनां दोनां दी दोस्ती की मिसाल तहसील दा हरेक बंदा दिंदा नहीं थकदा। होर तां होर लोक तां इह वी किहंदे ने कि पूरी तहसील ही नहीं जिले दा सरकारी रिकार्ड इहनां दे कब्जे च एै। इसे करके तां इह किसे वी सरकारी जमीन चाहे ओह सैंट्रल गौरमैंट दी होवे जां वक्फ बोर्ड दी, मिन्टां च अदला-बदली करन दी ताकत रखदे हन। इहनां दोवां दी जौड़ी दा ताजा मामला सामने आ गया है, जिसदा खुलासा जल्दी ही करन दी तैयारी खिच लई गई है ते जल्दी ही लोकां दे रूबरू करके पर्देफाश करांगे। होर तां होर इहनां ने इस नवें मामले च तां अपने परिवार दे मैंबर वी शामल कीते होए हन….। जल्दी ही अधिकारियां नाल मिलीभुगत करके इहनां वलों मचाई लुट्ट दे खुलासे दस्तावेजां सणे कीते जाणगे। तां ही तां सियाणे कहंदे ने गल्त कम्म करन वाले सब फड़े जाणगे…सब फड़े जाणगे….सब फड़े जाणगे…